खान-पान

Generic placeholder image

सर्दी में बरतें खानपान में खास सावधानी

सर्दियों का मौसम आ गया है। इससे बचने के लिए कई सारे गर्म कपड़े पहने जाते हैं ताकि सर्दी न लगे, लेकिन शरीर को अंदरूनी गर्मी की भी जरूरत होती है, जिसके लिए खानपान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। शरीर में यदि अंदर से खुद को मौसम के हिसाब से ढालने की क्षमता हो तो ठंड कम लगेगी और कई बीमारियां भी नहीं होंगी। ऐसे में इस मौसम में खानपान कैसा हो, इस बारे में हम आपको बताते हैं। बाजरा एक ऐसा अनाज है जो शरीर को सबसे ज्यादा गर्मी देता है। सर्दी के दिनों में बाजरे की रोटी बनाकर खाएं। छोटे बच्चों को बाजरा की रोटी जरूर खाना चाहिए। दूसरे अनाजों की अपेक्षा बाजरा में सबसे ज्यादा प्रोटीन की मात्रा होती है। बाजरा में शरीर के लिए आवश्यक तत्व जैसे मैग्नीशियम,कैल्शियम,मैग्नीज, ट्रिप्टोफेन, फाइबर, विटामिन- बी, एंटीऑक्सीडेंट आदि भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। बादाम भी कई गुणों से भरपूर होती है। अक्सर माना जाता है कि बादाम खाने से याददाश्त बढ़ती है, लेकिन यह ड्रायफ्रूट अन्य कई रोगों से हमारी रक्षा भी करता है। इसके सेवन से कब्ज की समस्या दूर हो जाती है, जो सर्दियों में सबसे बड़ी दिक्कत होती है। बादाम में डायबिटीज को नियंत्रित करने का गुण होता है। इसमें विटामिन-ई भरपूर मात्रा में होता है। रोजाना के खाने में अदरक को शामिल करके भी बहुत सी छोटी-बड़ी बीमारियों से बचा जा सकता है। सर्दियों में इसका किसी भी तरह से सेवन करने पर बहुत लाभ मिलता है। इससे शरीर को गर्मी मिलती है और पाचनतंत्र भी सही रहता है। इस मौसम में मूंगफली खाना भी काफी फायदेमंद है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन, मिनिरल्स आदि तत्व बेहद फायदेमंद होते हैं। मूंगफली को गरीबों का बादाम कहा जाता है। यूं तो सभी मौसम में शहद का सेवन लाभकारी है, लेकिन सर्दियों में शहद का उपयोग विशेष लाभकारी होता है। शरीर को स्वस्थ, निरोग और ऊर्जावान बनाए रखने के लिए शहद को आयुर्वेद में अमृत भी कहा गया है। लिहाजा, इनदिनों अपने भोजन में शहद को जरूर शामिल करें। इससे पाचन क्रिया में सुधार होगा और इम्यून सिस्टम पर भी असर पड़ेगा। इसके अलावा अपनी खुराक में हरी सब्जियों का सेवन करें। सब्जियां, शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है और गर्मी प्रदान करती है। सर्दियों के दिनों में मेथी, गाजर, चुकंदर, पालक, लहसुन बथुआ आदि सब्जि-यां आसानी से उपलब्ध है। इनसे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। सर्दियों के मौसम में तिल खाने से भी शरीर को ऊर्जा मिलती है। तिल के तेल की मालिश करने से ठंड से बचाव होता है। तिल और मिश्री का काढ़ा बनाकर खांसी में पीने से जमा हुआ कफ निकल जाता है। तिल में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं। जैसे, प्रोटीन, कैल्शियम, बी कॉम्प्लेक्स और कार्बोहाइट्रेड आदि। प्राचीन समय से खूबसूरती बनाए रखने के लिए तिल का उपयोग किया जाता रहा है।