साक्षात्कार

Generic placeholder image

ऐसा लिखा जाए कि लोग आसानी से समझ जाएं : पार्श्वगायिएका आशा भौंसले

आशा भौंसले गोल्डन एरा की उन चुनिंदा सिंगर्स में से एक हैं जिनके गाने नई जनरेशन भी पसंद करती है। पार्श्वगायिका आशा भौंसले का मानना है कि एक अनुभवी गायक बनने के लिए शास्त्रीय संगीत के गहन प्रशिक्षण और इसके निरंतर अभ्यास की आवश्यकता है। गजलों और गीतों के वर्तमान दौर पर उन्होंने कहा कि गीत और गजल इस तरह लिखे जाने चाहिए कि इन्हें आम लोग आसानी से समझ सकें। पहले के समय में लोग उर्दू को आसानी से समझ सकते थे, लेकिन वर्तमान दौर में लोग हिंदी एवं अंग्रेजी शब्दों को समझने में अधिक सहज महसूस करते हैं। आप मानती हैं कि गायक बनने के लिए शास्त्रीय संगीत जरूरी है? - संगीत ईश्वर की देन है, लेकिन एक अनुभवी गायक बनने के लिए शास्त्रीय संगीत के गहन प्रशिक्षण और इसके निरंतर अभ्यास की आवश्यकता होती है। वर्तमान पीढ़ी के गायकों को मन्ना डे, किशोर कुमार और लता मंगेशकर जैसी क्षमता वाले गायक बनने के लिए शास्त्रीय संगीत का मजबूत आधार बनाना पहली शर्त है। आपने कब से गाना शुरू किया? - बड़ी बहन लता मंगेशकर की जिम्मेदारियों को कम करने के लिए मैंने 10 साल की उम्र में ही गाना शुरू कर दिया था। अब तक मैं 12 हजार से ज्यादा गाने गा चुकीं हूं। मुझे इस बात की गर्व है कि मैं सुरों की कोकिला लता मंगेशकर की छोटी बहन हूं। हालांकिक जब मैंने उनके सेक्रेटरी गणपतराव भोसले से भाग कर शादी की तो दीदी बहुत नाराज हुई। .. तो क्या आपने लव मैरिज की थी? - यह निहायत व्यक्तिगत सवाल है। लेकिन पूछते हैं तो बताती हूं। 16 साल की बाली उम्र में मुझे गणपतराव भोसले से प्यार हो गया था। उस समय गणपतराव 31 साल के थे। घर वाले हमारी शादी के लिए राजी नहीं थे। इसलिए हमने भागकर शादी की। गणपतराव के परिवार का व्यवहार मेरे साथ ठीक नहीं था। इसलिए मैं उनका घर छोड़कर वापस आ गई। आपको पहला मौका कब और कैसे मिला? - मैंने 1943 में मराठी फिल्म से अपने गाने की शुरुआत की। लेकिलन पहली बार हिंदी फिल्म में गाने का मौका हंसराज बहल ने दिया। हालांकिि बड़ी पहचान संगीतकार ओपी नैय्यर ने दिलाई। उस जमाने में सी रामचंद्र के गाने भी बहुत हिट हुए। इनमें ईना-मीना-डीका सबसे ज्यादा हिट रहा। वैसे हर संगीत निर्देशक का मेरे करियर में योगदान रहा है। मसलन, मदन जी का 'झुमका गिरा रे',रवि साहब का 'आगे भी जाने न तू', शंकर जयकिशन का 'पर्दे में रहने दो।' गाये हुए गानों में अपना कोई पसंदीदा गाना? - वैसे तो हर गाना मुझे पसंद है। लेकिन कैबरे डांस से तहलका मचाने वाली अभिनेत्री हेलेन के लिए गाए गए एक से बढ़कर एक गाने में 'आज की रात कोई आने को है रे बाबा' मुझे सबसे ज्यादा पसंद है। लताजी और आपमें क्या कॉमन है? - हम दोनों बहनें जब साथ होतीं तो कभी संगीत पर बात नहीं करती हैं। जोक्स सुनाती हैं, हंसी मजाक करती हैं या खाना बनाते हैं। अलग-अलग स्टाइल से हम सब गाते हैं। कोई एक दूसरे को कॉपी नहीं करती। लता दीदी को कॉपी करना तो किसी के लिए भी संभव नहीं। उनकी आवाज तो भगवान की देन हैं। ऐसा कोई क्षण, जो भूलाए नहीं भूल पातीं हैं? - लता दीदी की बीमारी के दौरान उन्हें लेकर जो अफवाहों का दौर चला, वह मेरे लिए काफी खतरनाक क्षण था। मैं उनके पास बैठी थी और वे बिल्कुल स्वस्थ थीं। तब भी मेरे पास मैसेज और फोन आ रहे थे कि उनका निधन हो गया है। काल्पनिक दुनिया का सच देखिए कि लोगों को उनकी बहन की बातों से ज्यादा भरोसा अफवाहों भरे मैसेज में था। मुझे उन्हें समझाना पड़ रहा था कि देखो मैं हंस-हंस के बात कर रही हूं न। मतलब लता दीदी ठीक हैं। लेकिन बिना देखे सोचे समझे अफवाहों पर भरोसा करना कितना आसान हो गया है, यह बहुत खतरनाक है।