खेल

Generic placeholder image

धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट में पूरे किए 15 साल

भारत को दो-दो वर्ल्ड कप जिताने वाले पूर्व कप्तान और अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट में 15 साल पूरे कर लिये हैं। वर्ल्ड क्रिकेट में महेंद्र सिंह धोनी इकलौते ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने आईसीसी की तीन बड़ी ट्रॉफी पर कब्जा जमाया है। धोनी की कप्तानी में भारत आईसीसी वर्ल्ड टी-20 (2007), क्रिकेट वर्ल्ड कप (2011) और आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी (2013) का खिताब जीत चुका है। इसके अलावा भारत 2009 में पहली बार टेस्ट में नंबर एक बना था। भारत में जहां क्रिकेटरों को शीर्ष स्तर तक पहुंचने में जीवन लगा देना होता है, वहीं धोनी की प्रतिभा कुछ अलग ही थी। जूनियर क्रिकेट से बिहार क्रिकेट टीम, झारखंड क्रिकेट टीम से इंडिया ए टीम तक और वहां से भारतीय टीम तक का उनका सफर महज 5-6 साल में पूरा हो गया। उन्होंने 1998 में जूनियर क्रिकेट की शुरुआत की थी और 23 दिसंबर 2004 में उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ वनडे मैच के जरिए अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का आगाज कर दिया था। धोनी बांग्लादेश के खिलाफ अपनी पहली सीरीज में कुछ खास नहीं कर पाए, लेकिन अगली सीरीज में पाकिस्तान के खिलाफ अपने पांचवें वनडे मैच में विशाखापट्टनम में 123 गेंदों पर 148 रनों की पारी खेलकर इस खिलाड़ी ने सबकी जुबां पर एक सवाल छोड़ दिया, 'वो लंबे बालों वाला लड़का, धोनी कौन है?' धोनी ने भारतीय टीम की कप्तानी साल 2008 में संभाली थी। जब उन्होंने टीम की कप्तानी संभाली तो उनके पास कई चुनौतियां थीं। जैसे की युवाओं को मौका देना और भविष्य के लिए टीम का निर्माण करना। धोनी ने उन सभी चुनौतियों का सामना करते हुए भारतीय टीम को कई ऐतिहासिक पल दिए। भारत ने धोनी की कप्तानी में पहली बार टेस्ट में नंबर एक बनने का स्वाद चखा। दिसंबर 2014 में धोनी ने टेस्ट क्रिकेट से अचानक संन्यास की घोषणा कर दी थी। धोनी ने साल 2017 की शुरुआत में ही वनडे और टी 20 कप्तानी को भी उसी अंदाज में अलविदा कहा, जिसके लिए वो जाने जाते हैं। वर्ल्ड कप-2019 के दौरान धोनी अपनी धीमी बल्लेबाजी की वजह से आलोचकों के निशाने पर रहे। वह न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में रन आउट हो गए थे, जिसके बाद ही भारत की उम्मीदों पर पानी फिर गया था। टीम इंडिया के वर्ल्ड कप से बाहर हो जाने के बाद धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से ब्रेक ले लिया। उन्होंने इस दौरान टेरिटोरियल आर्मी यूनिट के साथ कश्मीर में 15 दिन बिताए। वह वर्ल्ड कप के बाद से किसी भी इंटरनेशनल क्रिकेट सीरीज का हिस्सा नहीं रहे। माना जा रहा था कि महेंद्र सिंह धोनी 2019 क्रिकेट वर्ल्ड कप के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यहां तक की टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री ने महेंद्र सिंह धोनी की वापसी के संकेत दिए हैं। धोनी की उपलब्धियां : 1 क्रिकेट वर्ल्ड कप (2011), 1 टी-20 वर्ल्ड कप (2007), 1 चैम्पियंस ट्रॉफी (2013), 3 आईपीएल खिताब (2010, 2011, 2018), 2 चैम्पियंस लीग टी-20 खिताब (2010, 2014), 10,773 वनडे रन+ विकेट के पीछे 444 शिकार, 4,876 टेस्ट रन + विकेट के पीछे 294 शिकार, 1,617 टी-20 इंटरनेशनल रन + विकेट के पीछे 91 शिकार। वनडे इंटरनेशनल में प्रदर्शन : धोनी ने भारत के लिए अब तक 350 वनडे मैचों में 50.57 की औसत से 10773 रन बनाए हैं, जिसमें 10 शतक और 73 अर्धशतक शामिल हैं. इस दौरान उनका बेस्ट स्कोर नाबाद 183 रन रहा. वनडे में धोनी के नाम 1 विकेट है और उनका बेस्ट प्रदर्शन 14 रन देकर 1 विकेट रहा है। टेस्ट मैचों में प्रदर्शन : महेंद्र सिंह धोनी ने भारत के लिए अब तक 90 टेस्ट मैचों में 38.09 की औसत से 4876 रन बनाए हैं, जिसमें 6 शतक और 33 अर्धशतक शामिल हैं. इस दौरान उनका बेस्ट स्कोर 224 रन रहा। टी-20 इंटरनेशनल में प्रदर्शन : महेंद्र सिंह धोनी ने भारत के लिए अब तक 98 टी-20 इंटरनेशनल मैचों में 37.60 की औसत से 1617 रन बनाए हैं, जिसमें 2 अर्धशतक शामिल हैं. इस दौरान उनका बेस्ट स्कोर 56 रन रहा।