खेल

Generic placeholder image

बीसीसीआई को आरटीआई के दायरे में लाएंगे

खेल मंत्री किरन रिजिजू ने कहा है कि बीसीसीआई को राष्ट्रीय डोपिंग निरोधक एजेंसी के दायरे में लाना उनके पिछले तीन महीने के कार्यकाल की सबसे बड़ी उपलब्धियों में से एक रही है। बीसीसीआई को लंबे समय तक नानुकुर के बाद आखिरकार इस महीने नाडा के दायरे में आने के लिए रजामंदी जतानी पड़ी, जिससे उसके राष्ट्रीय खेल महासंघ बनने का मार्ग प्रशस्त हो गया। वहीं अब उनकी कोश‌िश रहेगी कि बीसीसीआई को आरटीआई के दायरे में लाया जाए। रिज‌िजू ने कहा कि बीसीसीआई क्रिकेट की संचालन ईकाई है और क्रिकेट भी खेल है। देश में खेल के तमाम कानून और प्रावधान उस पर लागू होते हैं। मेरा मानना है कि देश में हर खेल और हर खिलाड़ी बराबर है। उन्होंने कहा क‌ि यह स्वाभाविक प्रक्रिया है और अच्छा है कि ऐसा हो गया। यह अजीब सा लगता कि सिर्फ एक खेल नियमों के दायरे से बाहर है। खेलमंत्री ने यह भी कहा कि जल्दी ही बीसीसीआई आरटीआई के दायरे में भी आ जाएगा। उन्होंने कहा क‌ि सरकार का पैसा जनता का पैसा है। बीसीसीआई के पास पैसा कहां से आ रहा है। बीसीसीआई की यह दलील बेमानी है कि वह सरकार से अनुदान नहीं लेता। लोग टीवी देखते हैं, टिकट खरीदते हैं, विज्ञापन का पैसा, यह सब जनता का पैसा है। उन्होंने कहा क‌ि लोगों से ही पैसा मिलता है। लोगों का पैसा चाहे सरकार से ले या सीधे, बात एक ही है। हर संगठन को पारदर्शिता और जवाबदेही से काम करना चाहिये। क्रिकेट या किसी एक महासंघ की बात नहीं हो रही है। रिजीजू ने यह भी कहा कि राष्ट्रीय खेल आचार संहिता खेलों में सुशासन के लिए जरूरी है और सरकार जल्दी ही मजबूत आचार संहिता लेकर आएगी।