ट्रेवल

Generic placeholder image

गोवा में करें नए साल का स्वागत

वैसे तो पूरे देश में नए साल के जश्न का दौर रहता है। लेकिन गोवा में न्यू इयर सेलिब्रेशन की बात ही कुछ और है। रातभर यहां जश्न का माहौल रहता है और पूरे गोवा को रोशनी से जगमग कर दिया जाता है। बीच पार्टीज से लेकर यहां की नाइटलाइफ दुनियाभर में मशहूर है। वैसे तो गोवा सालभर ही गुलजार रहता है, लेकिन नए साल की धूम के चक्कर में यहां की रौनक कुछ और ही होती है। बीच से लेकर क्लब और पब लोगों से भरे रहते हैं और खूब जश्न मनाया जाता है। दरअसल, गोवा जिस तरह से नए साल का स्वागत करता है, भारत में शायद ही कहीं और ऐसा देखने को मिले। 31 दिसंबर को जैसे ही घड़ी में रात के 12 बजते हैं तो पूरा आसमान पटाखों और लाइटों से जगमग हो जाता है। वहां बैठकर सिर्फ उस फायरवर्क को देखना ही एक अजब से रोमांच से भर देता है। लालटेन जलाकर आसमान में छोड़ी जाती हैं। उस वक्त ऐसा लगता है मानो तारे जमीन पर उतर आए हों। कुल मिलाकर गोवा में नए साल के स्वागत करने की कई वजहें हैं। अगर आप इस बात को लेकर संशय में हैं कि गोवा में कैसे बजट में सेलिब्रेशन करें, तो आपको बता दें कि वहां कुछ ऐसे क्लब और कैफे हैं, जहां आप मात्र 1 हजार रुपये से लेकर 5 हजार तक में खूब शानदार पार्टी कर सकते हैं। जैसे कि क्लब टीटोज। यह गोवा में पार्टी करने की बेस्ट जगह है और यहां प्रति कपल 1 हजार रुपये चार्ज किए जाते हैं। क्लब टीटोज के अलावा गोवा में और भी कई जगहें हैं, जहां नए साल का जश्न धूमधाम से मनाया जा सकता है। जिन लोगों को ट्रांस म्यूजिक पसंद हैं, उन्हें हिल टॉप जगह बहुत पसंद आएगी। यह खासकर उन्हीं लोगों के बीच पॉपुलर है। यहां बेहतरीन फूड और बेस्ट म्यूजिक के साथ अच्छा क्राउड भी मिलता है। यानी आप बिना किसी टेंशन के न्यू इयर सेलिब्रेट कर सकते हो। गोवा का कमाकी क्लब भी काफी पॉपुलर है। लोगों को यहां का ग्रीक टच सबसे ज्यादा लुभाता है। इसके साथ ही यहां फूड से लेकर म्यूजिक और ड्रिंक्स भी गजब के हैं। भारत में गोवा को अल्टीमेट पार्टी डेस्टिनेशन माना जाता है। गोवा के कसीनो सबसे ज्यादा फेमस है। यहां के बीच, लैंडस्केप, कसीनो, नाइट क्लब, पब्स, रेस्टोरेंट और बेस्ट होटल यहां सभी आसानी से मिल जाएंगे। यहां वाटर स्पोर्ट्स, स्ट्रीट मार्केट और नाइट मार्केट का भी ऑप्शन है। गोवा में अक्टूबर से लेकर मार्च महीने तक टूरिज्म का पीक सीजन होता है। तब यहां के लिए फ्लाइट, होटल, किराए पर बाइक और कार सब महंगे मिलते हैं, लेकिन ऑफ सीजन में सब कम प्राइस पर आसानी से मिल जाता है। गोवा में अप्रैल से लेकर सितंबर ऑफ सीजन माना जाता है, जब टूरिस्ट का फ्लो पीक सीजन की तुलना में कम होता है। सिद्ध मुंबई-गोवा राजमार्ग अथवा राष्ट्रीय राजमार्ग-17 से होते हुए आप मुंबई से गोवा पहुंच सकते हैं जो मुंबई को सीधे गोवा से जोड़ता है। हालांकि कुछ समय पहले यह रास्ता दो लेन एकसाथ होने के कारण कम प्रयोग किया जाने लगा, जिसमें एक लेन ऊपर और एक लेन नीचे है। यह न केवल खतरनाक है, बल्कि आपकी यात्रा को भी लंबा बनाती है। इससे अधिक सुविधाजनक आठ लेनयुक्त एक्सप्रेस मार्ग है, जो मुंबई से पुणे की ओर जाता है और जो सतारा राजमार्ग से होते हुए महाराष्ट्र के दूसरे छोर पर स्थित सावंतवाड़ी तक पहुंचता है। गोवा यहां से कुछ ही मिनटों की दूरी पर है। फिर मुंबई, पुणे और महाराष्ट्र के दूसरे शहरों से गोवा के लिए अनेक आरामदायक बस सेवाएं उपलब्ध हैं। इस तरह गोवा भारत के लगभग सभी शहरों से हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। यदि आप वायु-मार्ग से गोवा जाना चाहते हैं तो यहां डेबोलिम एअरपोर्ट या गोवा इंटरनेशनल एअरपोर्ट है जो की समस्त बड़े शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। डेबोलिम एअरपोर्ट गोवा की राजधानी पणजी से महज 25 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां से घरेलू और विदेशी दोनों प्रकार की फ्लाइट्स उपलब्ध है। यदि आप रेलमार्ग से जाना चाहते हैं तो गोवा राज्य में दो प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं। एक तो वास्कोडिगामा और दूसरा मडगांव। इसलिए देख लें कि आपके शहर से कौनसे स्टेशन के लिए ट्रेन है। जबकि जलमार्ग से गोवा जाने वालों के लिए मुम्बई से गोवा जाने की व्यवस्था है। हालांकिश इसमें समय ज्यादा लगता है। जलमार्ग से गोवा जाना एक सुखद अनुभव जैसा है। गोवा सिटी के पर्यटन स्थल देखने से पहले ही इस बहाने आप समुद्र के नज़ारों का मजा ले सकते हैं।